Friday, 1 July 2011

गीत - "सावन में ........."

शाम जब, चाँद चढ़ेछत पर, तुम  जाना,
मैं, निहारूंगा तुझे, शरमा तुम जाना.

बहुत शरारतें, कुदरत कीसावन में होतीं,
सभीचर्चा करें, जो बूँदेंतुझको हैं डसती.

छपा-छप खेलती, पानी से, आप सावन में,
बड़े नसीब हैं, बूंदें गिरें, मेरी जिंदगानी पे.

लरज़ते बादलों से, गिरती है शबनम, आप पर ऐसे,
बसे पलकों पर ऐसे, सीप में, मोती बसे जैसे.

छमाछम बरसे पानी, भीगती हैं, आप कुछ ऐसे,
नयी दुल्हन पिया की, पहली छुअन से, तृप्त हो जैसे.

कहो मेघा से, बरसे जोर से, संग बिजली कड़काए,
सहम कर भीगी-भीगी तू, मेरी बाँहों में जाये.

6 comments:

  1. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  2. आपकी पोस्ट कल(3-7-11) यहाँ भी होगी
    नयी-पुरानी हलचल

    ReplyDelete
  3. Sangeeta ji, Yashwant Mathur ji, Bhaut Bahut Dhanyvad. Mujhe khushi hai ki aap ko meri rachna acchi lagi. Facebook per aap ka hardik swagat hai, jahan FB-Notes mein rachanayein aur kabhi kabhi wall par chadikayein bhi main post karta rahta hoon.
    Regard, Rajesh Saxena "Rajat"

    ReplyDelete
  4. Vandana ji, Aap ka bahut bahut dhanyavad, meree kavita ko auron tak pahuchane ke liye.
    Regards, Rajesh Saxena "Rajat"

    ReplyDelete